Vijay Milegi Maan Le विजय मिलेगी मान ले

विजय मिलेगी मान ले

Vijay Milegi Maan Le विजय मिलेगी मान ले                  (१)

होली में आना पिया,
                  जोहूँगी मैं बाट ।
उर के मेरे देखकर,
                  हास करेंगे पाट ।।
हास करेंगे पाट,
               चूड़ियाँ भी खनकेंगी ।
होगी मादक भोर,
                 अरे शामैं महकेंगी ।।
कह सागर कविराय,
                खुशी आती झोली में ।
अलसाया उर बने,
               सदा मादक होली में ।।

                (२)

सूरज भी तपने लगा,
               हुआ शिशिर का अंत ।
कलियों के तन पर सजा,
                  नूतन मधुर वसंत ।।
नूतन मधुर वसंत,
                कुहू के गान सुरीले ।
दिखते मधुरिम चीर,
              गगन के तन पर नीले ।।
कह सागर कविराय,
             बनी है मादक रज भी ।
गाता होली गीत,
             भोर में आ सूरज भी।।

                   (३)

विजय मिलेगी मान ले,
                  उर में रख विश्वास ।
तनिक पराजय के लिये,
                   तोड़ न देना आस ।।
तोड़ न देना आस,
                  गीत मधुमासी होंगे ।
तू राह पर चल रे,
               साथ अविनाशी होंगे ।।
कह सागर कविराय,
          खुशी नित अभय मिलेगी ।
अधरों पर रख हास,
            तुझे भी विजय मिलेगी ।।

© डा० विद्यासागर कापड़ी
         सर्वाधिकार सुरक्षित

via Blogger https://ift.tt/3g30Yb7

Leave a Reply

Close Menu
×
×

Cart