Selected:

Mungra Ki Chot By Rakesh Mohan Khantwal

Rs.150.00 Rs.105.00

-30%

Mungra Ki Chot By Rakesh Mohan Khantwal

Rs.150.00 Rs.105.00

  • Samay Sakshya Prakashan
  • ISBN : 978-93-86452-25-2
  • Pages : 84
  • Poems : 50

10 in stock

Add to Wishlist
  Ask a Question

Description

“मुंगरा की चोट” वास्तव में वर्तमान की भ्रष्ट व्यवस्था पर एक करारी चोट है। गढवाली़ भाषा में गीत, कविता, पटकथा व स्टेण्डअप कॉमेडी में अच्छी- खासी दखल रखने वाले युवा साहित्यकार राकेश मोहन खंतवाल का पहला कविता संग्रह है- ‘मुंगरा की चोट’। राकेश खंतवाल देहरादून दिल्ली में रहकर पहाड़ और पलायन का रोना रोने वाले लेखकों से इतर गॉंव में ही रह रहे हैं और जो भुगत रहे हैं वो कह रहे हैं। यही बात इनको भीड़ में भी अलग खड़ा करती है। आप इस पुस्तक को पढ़ेंगे तो पहली ही रचना से ‘मुंगरा की चोट’ की गूँज आपके कानों में सुनायी देनी शुरू हो जायेगी।

Additional information

Weight .200 g
Dimensions 22 × 14 × 2 cm

Reviews

There are no reviews yet.

Only logged in customers who have purchased this product may leave a review.

No more offers for this product!

General Inquiries

There are no inquiries yet.

You may also like…

Close Menu
×
×

Cart