मिल भी ज़रा फैशन कैरी

न्याणी क्याणी पैंट पर पर दुई चार छेद जक्खी तक्खी कैरी
मिल भी ज़रा फैशन कैरी ता दुन्या से क्या मिल बक्की कैरी

साख्युँ बीटी सरसू पुड्या छिन जौकी खट्ल्यूँ मा
Fati Jeansअज्गयाल तौका भी ता चश्मा धरया छिन लट्ल्यूँ मा

बैठी की फोटो खिचाणु जू मैक डी डोमिनोज मा
पतला चटद मैन भी देखी स्यू ब्यौ बरात्यूँ का भोज मा

काँटा चमचा हाथ धैरी ज़रा सी सीखा सीखी कैरी
मिल भी ज़रा फैशन………….

आँखा कताडी नज़र गै मेरी फुरफुरी पैरी जैं बाँद मा
रुमकी दा मैन भी देखी आग तपद वा चुल्लखाँद मा

फिफन्डो पर (हिल) कीला घैन्ट्या छिन मुखडि झणी क्या लपोडी की
झणी कू लोलु लायी ये फैशन दग्डयों बिदेसु बीटी रगोडी की

सौला सी कांडा मैन भी बाल बणेनी नज़र या टक्क टक्की कैरी
मिल भी ज़रा फैशन…………

ब्यालि तक जैका नाक सिंगौडू जम्यू छौ स्यू भी मोटर कार मा
मेरी भी खुट्टी ज़रा चिफलेनि दग्डयों तैकी सिका सार मा

झगुली टुपली दुई मुख वुई बात लगदी अब पुराणी सी
कुटा कुटी मा मी भी कुटी ग्यौ मैना असूजा की धाणी सी

मोबाइल बटुआ धैरी बणी ग्यौ हीरो दुन्या की सिखा सीखी कैरी
मिल भी ज़रा फैशन…………

दीपक रावत
कपोलस्यूँ कांडई

Leave a Reply

Close Menu
×
×

Cart