Maa माँ

माँ

ईश्वर का दूजा रूप है तू,
प्रसाद बर्फी और मेवों का।

Maa माँ
माँ तेरे जैसा कोई नहीं है,
ठुकरा दूँ आसन देवों का। 
छाया हो तेरे आँचल की माँ,
भाग बँधा हो हर जन्म तुझी से।
तेरे हाथों का स्पर्श हो जाये,
तकदीर मेरी मिल जाये मुझी से।
अमर वृक्ष की शाख हूँ मैं,
अमृत रस का मैंने पान किया।
अकिंचन था तेरे लाड बिना माँ,
तूने जगती में लाके उद्धार किया।
वरदहस्त तेरा मेरे शीश रहे नित,
चरण रज में इंद्रासन पा जाऊँ।
सीख तेरी अनमोल धरोहर,
नूतन पुष्पों को सिखला जाऊँ।
नीर न नैनों में आये मेरे कारण,
हर आँचल मुझको माँ दिख जाये।
तन मन मेरा दुग्ध धवल हो,
नाम तेरा उर में अब लिख जाये।
सर्वाधिकार सुरक्षित-नन्दन राणा

via Blogger https://ift.tt/2YGJA3M

Leave a Reply

Close Menu
×
×

Cart

Send this to a friend