Kathputli Khel कठपुतली का खेल

कठपुतली का खेल

Kathputli Khel कठपुतली का खेल
                       (१)

गेह सदा ही हो सुखी,
               अधर रहे नित हास । 
भक्ति भावना से बनें ,
               शिव चरणों के दास ।।
शिव चरणों के दास,
           उछास भरा हो मन में ।
हो आपका निवास,
            सदा ही सुख के वन में ।।
कह सागर कविराय,
           मिले शुभ,नेह सदा ही ।
मंदिर सा हो सुखद,
            सुवासित गेह सदा ही ।।

                (२)

रसना में वाणी मधुर,
               कर में हो उपकार ।
तब मिलती है सम्पदा,
              होती जय-जयकार ।।
होती जय-जयकार,
              सुखी होता है जीवन ।
जाती रिपुता छोड़,
         मीत बन जाता जन-जन ।।
कह सागर कविराय,
         रखो मन शुभ वसना में ।
रखना मधु का घोल,
          सदा ही तुम रसना में ।।

                 (३)

चार दिनों की चाँदनी,
                   रखियो सबसे मेल ।
डोर किसी के हाथ में,
                कठपुतली का खेल ।।
कठपुतली का खेल,
                 साँस भी कब है तेरी ।
कहता फिरता सदा,
                  जगत में मेरा-मेरी ।।
कह सागर कविराय,
              बात है पलों-छिनों की ।
यात्रा अपनी जान,
            जगत में चार दिनों की ।।

    ©डा० विद्यासागर कापड़ी
           सर्वाधिकार सुरक्षित

via Blogger https://ift.tt/2XjyBg3

Leave a Reply

Close Menu
×
×

Cart