Dr. Vidhyasagar Kapri Ke Dohe Part 17 डॉ. विद्यासागर कापड़ी के दोहे भाग 17

सागर के दोहे……….

                  (१)
Dr. Vidhyasagar Kapri Ke Dohe  डॉ. विद्यासागर कापड़ी के दोहे
एक भले कानून पर,
                   करते हैं गुमराह ।
हित साधन फैला रहे ,
                 झूठ-मूठ अफवाह ।।

                (२)

नेता ही करवा रहे,
               आग, तोड़ या फोड़ ।
  सब दंगों के साथ हैं,
                उनके ही गठजोड़।।

               (३)

बहकावे में आ रहे,
                  सीधे-सादे  लोग ।
नेताओं को दिख रहा,
                   दंगों में भी योग ।।

                   (४)

कल होगा दंगा कहाँ ,
                   नेता सोचें आज ।
ऐसे ही तो कर रहे,
                   सालों से ये राज ।।

©डा० विद्यासागर कापड़ी
            सर्वाधिकार सुरक्षित

via Blogger https://ift.tt/2AmB3e8

Leave a Reply

Close Menu
×
×

Cart