मिल भी ज़रा फैशन कैरी

न्याणी क्याणी पैंट पर पर दुई चार छेद जक्खी तक्खी कैरी मिल भी ज़रा फैशन कैरी ता दुन्या से क्या मिल बक्की कैरी साख्युँ बीटी सरसू पुड्या छिन जौकी खट्ल्यूँ…

Continue Reading

ज्यू त ब्वनू च

ज्यू त ब्वनू च: ‘खुद’ अर ‘खैरि’ की डैअरि (diary)      संसार की कै भि बोली-भाषा का साहित्य की सबसे बड़ी सामर्थ्य होंद वेकी संप्रेषणता अर साहित्य की संप्रेषणता…

Continue Reading

करवाचौथ व्रत – यादो की कलिका

सभी पति -पत्नियों को करवाचौथ के शुभअवसर पर बहुत- बहुत शुभकामना । प्रथम मिलन के क्षण का स्मरण आज जरूर करें, एक छिपी हुई मिठास महसूस होगी आपको। पति के…

Continue Reading

Pooran Chandra Kandpal

     पूरन चन्द्र काण्डपाल      जन्म : 28 मार्च, 1948     शिक्षा : एम.ए. एवं स्वास्थ्य शिक्षा     कार्यक्षेत्र :               सेवा…

Continue Reading

Kanhaiya Lal Dandriyal

गढवाळि साहित्य अर सृजन गढवाळि साहित्य अर सृजन का क्षेत्र मा कन्हैयालाल डंडरियाल जी को सिर्फ़ नाम ल्हेण पर हि गढवाळि साहित्य को एक स्वर्णिम अध्याय हम सब का समणि…

Continue Reading
Close Menu
×
×

Cart