Dhugdhugi Jyun Huyu धुगधुगी ज्यु ह्वयुं

धुगधुगी ज्यु ह्वयुं-------------------- बोल कागा क्या बोल बच्याणुं छौ। किजाणीं मैंतैं कनि  रैबार दैणुं छौ। सुबैरी बिन्सारी  रातबैंणिं दौं, टुटदि आंख्यौं निंदै झौल दौं, गौलामा छपड़ात अमौखू औणुं छौ। बोल…

Continue Reading

Sakhi सखी

सखी............. बाट बुहारूँ नैनन से नित ,     बीती उमर सखि आये न छलिया‌। रोज मथूँ दधि,नौनि रखूँ री, आये न घर सखि खाये न छलिया।। पीपल पात हिलें तो…

Continue Reading

Sakhi सखी

सखी............. बाट बुहारूँ नैनन से नित ,     बीती उमर सखि आये न छलिया‌। रोज मथूँ दधि,नौनि रखूँ री, आये न घर सखि खाये न छलिया।। पीपल पात हिलें तो…

Continue Reading

Sakhi सखी

सखी............. कर बंशी,मोर मुकुट सिर,    सखि अधरन मुस्कान झरी थी । चढ़ि कदम्ब बजावत बंशी,  सखि मुरली नव रस से भरी थी।। नैंनों गई बस मूरत वाकी,    …

Continue Reading

Sakhi सखी

सखी............. कर बंशी,मोर मुकुट सिर,    सखि अधरन मुस्कान झरी थी । चढ़ि कदम्ब बजावत बंशी,  सखि मुरली नव रस से भरी थी।। नैंनों गई बस मूरत वाकी,    …

Continue Reading

Roshan Ki Kalam Se रोशन की कलम से

रोशन की कलम से---------=========== कर्तव्य और  मर्यादा  विमुख जब, इंसानियत  ताक   पर  रखी जाती। जीवन   के  हर  कदम  कदम पर, मानवता  खुद में फरियादी लगती।।51 कीड़े मकोड़ों  सी हो गयी…

Continue Reading

Rishiyon Se Anyay ऋषियों से अन्याय

ऋषियों से अन्याय=========== सप्तश्रृषि तारामंडल  से  देख ताडंव, शोकाकुल   हुए  अपने  ऋषिकुल में। कैसी  व्यवस्था  हो  गयी   धरती  पर, पशु से भी बदतर स्वर्ग रूपी जनत में।। पापों से भरकर …

Continue Reading
Close Menu
×
×

Cart